Read more



आपको बारिश का मौसम पसंद आ सकता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आर्द्र मानसून कुछ बीमारियों का घर होता है। यह बरसात का मौसम विशेष रूप से मच्छर जनित संक्रमणों और बीमारियों का समय होता है। इसलिए हमारे बुजुर्ग शुरू से ही बारिश में खाने-पीने के बारे में कुछ खास बातें कहते रहे हैं। आहार शरीर के लिए आवश्यक है लेकिन अगर उचित आहार नहीं लिया जाए तो कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। मानसूनी सब्जियों और फलों में छोटे जीवों को विकसित करने का समय होता है। इसलिए इस मौसम में सभी नम और ढीली चीजों के सेवन से बचना चाहिए। इस मौसम में खान-पान में कुछ सटीकता होनी चाहिए , तो आइए हम आपको बताते हैं कि बरसात के मौसम में क्या नहीं खाना चाहिए।
बरसात के मौसम में क्या नहीं खाना चाहिए?

1. जमे हुए और जमे हुए खाद्य पदार्थों से बचें

आजकल एक चलन है कि लोग जमी हुई चीजों का बहुत अधिक सेवन करते हैं। दरअसल, गर्म और उमस भरे मौसम में भी इसका सेवन करना अच्छा लगता है। साथ ही फ्रोजन फूड बनाने में तो बहुत आसान है ही, खाने में भी स्वादिष्ट। लेकिन इन दोनों की वजह से बारिश में पेट में इंफेक्शन हो सकता है। ये दोनों आपके पाचन तंत्र को कमजोर कर सकते हैं और आपके शरीर में खनिजों को खत्म कर सकते हैं। इसलिए इस मौसम में फ्रिजी ड्रिंक्स लेने से बचें और हाइड्रेटिंग ड्रिंक्स जैसे नींबू पानी और जलजीरा का सेवन करें।

2. पत्तेदार हरी सब्जियों से बचें

मानसून के मौसम का तापमान और आर्द्रता बैक्टीरिया और कवक के विकास के लिए अनुकूल होती है, खासकर हरी पत्तेदार सब्जियों में। इससे पेट में संक्रमण हो सकता है। इसलिए पालक, मेथी, पत्ता गोभी, फूलगोभी जैसी पत्तेदार सब्जियां खाने से बचें, क्योंकि ये बैक्टीरिया पनप सकते हैं। इसके बजाय आपको करेले और टिंडोडा जैसी सब्जियां खानी चाहिए।

3. बाहर के खाने और जूस पीने से बचें

रेस्तरां और स्ट्रीट फूड स्टॉल पर खाने से बचें क्योंकि मानसून का वातावरण बैक्टीरिया और कवक के विकास के लिए आदर्श है और भोजन और जलजनित संक्रमणों के जोखिम को बढ़ाता है। इसके अलावा, बाहर का जूस पीने से बचें क्योंकि इससे टाइफाइड, उल्टी और दस्त हो सकते हैं। इसलिए इस जूस का सेवन करने से बचें।

4. सलाद खाने से बचें

सलाद में कच्चे खाद्य पदार्थों का उपयोग किया जाता है। कच्चे खाद्य पदार्थ खाने से बैक्टीरिया और छोटे बैक्टीरिया तुरंत पहुंच जाते हैं, जो अंततः बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण का कारण बनते हैं। इसलिए इस दौरान सलाद खाने से बचें। ऐसे में सलाद के बजाय उबली या पकी हुई सब्जियां खाएं क्योंकि सब्जियां पकाने से हानिकारक बैक्टीरिया को मारने में मदद मिलती है।

5. दही खाने और छाछ पीने से बचें

मानसून के मौसम में दही खाना शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। क्योंकि भोजन की प्रकृति ठंडी होती है। यह साइनसाइटिस को बढ़ावा देता है। इसके साथ दही और छाछ का सेवन करने से भी पेट खराब और पेट खराब हो सकता है। इसलिए बरसात के दिनों में इन सभी चीजों को खाने से बचें।